Full Information About Joint Pain Also in hindi

Joint Pain General Information, Causes, Prevention And Treatment Also in hindi

Full Information About Joint Pain

Joint pain is a common ailment among people from various age groups, which can really be bothersome; hence, the need to cure joint pain. Otherwise known as arhtralgia or stiffness in a joint, joint pain is an offshoot of various conditions both inherent and acquired like accidents, injuries, infections, and diseases. Regardless of the root cause of the joint pain a person is suffering, there is a necessity to take immediate action to cure joint pain.
As the name so speaks, joint pain may be found to occur in any part of the body where joints are located. For this reason, a person may suffer from ankle pain, back pain, elbow pain, foot pain, hand pain, hip pain, knee pain, neck pain, shoulder pain, or wrist pain. In all instances, one is advised to undergo treatment to cure joint pain. Common symptoms to watch out for are the reddening and swelling of the joints, strained movement of the affected part, and joint pain.
People need not worry though since it is now easy to cure joint pain with the advanced technology specialists now have. Other than anti-inflammatory drugs and pain relievers, there are preparatory tests that are conducted as a prelude to help cure joint pain. These may be a blood test or CBC, x-ray, and other tests to measure the extent of the inflammation of the joints, if applicable. There is likewise the method called arthrocentesis, which involves draining fluids from the affected or inflamed joint.
Another common method to cure joint pain is physical therapy. Here, the patient submit to a regular joint and muscle check-up and rehabilitation. The joints are observed and treated until there are no more signs of swelling or inflammation, or until the patient is capable of fully utilizing his extremities again, without any form of pain.

गठिया का बेहतरीन इलाज कुछ ही दिनों में

possible causes of joint pain

Joint Pain is one ailment that can strike at any person, anytime and wherever he may be. While it is highly probable to cure joint pain, the same can really be a terrible experience to have so that it is one of the many detested illnesses by people.
In order to avoid the likelihood of having to suffer joint pain, and to know how to cure joint pain at the same time, it is important for a person to know what are the possible causes of joint pain. Here are some joint pain causes for people to be familiar with.

Joint pain may be brought about by mild incidents like a contusion, sprain, torn cartilage or ligament, or some other minor injuries during any form of activity. For this type, it would be very easy to cure joint pain. Conversely, joint pain may also be the result of more serious accidents, injuries, infections, or diseases. This kind is likewise treatable, but it may take a while for specialists to cure joint pain of this kind.
The more serious possible causes of joint pain include joint or bone dislocation, bacterial or viral infections such as hepatitis, measles, influenza, rubella, mumps, or syphilis, to name a few; autoimmune diseases like Sjogren’s syndrome and lupus; degenerative diseases like arthritis and rheumatism; or bone cancer, hyperparathyroidism and Paget’s disease. Generally, in order to cure joint pain as a result of any of these maladies, doctors would first have to treat the latter.
In all the aforementioned possible causes of joint pain, one is advised to carefully observe the signs and symptoms he is experiencing. If after employing basic at-home remedies to cure joint pain the same has not yet subsided and instead the joint pain has come to limit one’s movement, then immediate professional help is necessary.

What Happens to Untreated Joint Pain

Some people do not really mind and take measures to cure joint pain. One reason is that medication and treatment can be quite hard on their pockets. Another reason could be that they find it useless or so much of a hassle to still cure joint pain. However, one should be aware that joint pain just does not leave. He must likewise know what happens to untreated joint pain.
A simple joint pain, when left untreated can turn into something even more serious. The more serious joint pain is, the harder it is to cure joint pain. On this note, the physical discomfort one experiences when he has joint pain can turn out to be even more unbearable. If left untreated, joint pain can cause a permanent immobility of the affected part. One may not be able to do his ordinary daily activities ever again. This is one devastating effect so that people are urged to cure joint pain.
For some people, they cannot really avoid to cure joint pain, because it would likewise mean that they would have to pass up treating a disease they have. If joint pain is left untreated in this instance, one is likely to suffer from his disease even more. Not only that, but he will be making his loved ones suffer a lot too for they are witnesses to his pain and suffering.

For other people, on the other hand, if they do not cure joint pain, they could eventually suffer the loss of their limbs. This is highly applicable to persons who have suffered joint pain as a direct result of a sprain, fracture, or bone and joint dislocation. Of course, what could be more depressing than to lose a part of your body, which you can never lose again?

Risk Factors for Joint Pain

Joint pain is one ailment that is not specific to any person. It attacks at just about anyone and at anytime it wants. Thus, it would be a lot helpful if people are aware of the risk factors for joint pain. This would be beneficial in that one, it will help them to avoid getting the disease; and two, it would help them identify the proper ways and means to cure joint pain.
It is important to note that joint pain rarely occurs without any other attendant circumstances to which the risk factors for joint pain are related. Here’s a quick discussion of the various risk factors for joint pain, which can help you avoid and cure joint pain.
To start with, albeit this is not so much of a risk factor for joint pain, age has a lot to do with a person experiencing joint pain. It is not so much of a risk factor because young and old people alike are not exempted from getting the disease. However, joint pain is most naturally attributed to older people, who have developed weaker bones and immune system in total. The methods to cure joint pain in young people as well as in old people differ. Due to the changed bodies older people have, it is generally more difficult to cure joint pain in them.
A related risk factor is genetics. Joint pain is likewise observed among people who have a family history associated with joint pain. Because it is now in one’s genes, this one is quite difficult to avoid, and it may also take a while to cure joint pain.
A third risk factor for joint pain is when a person has already been suffering from any disease, which have joint pain as one of its symptoms. To cure joint pain in this instance, doctors would first have to treat the disease. Once fully healed, it would now be easy to get rid of joint pain.
Finally, a known factor that triggers joint pain is when a person is frequently engage in very active and high-impact activities and sports. When a person suffers from a sprain, fracture or dislocation, he is
likely to experience joint pain on the damaged joint. This one can really be painful and one would need an expert to cure joint pain.

Types of people who commonly get joint pain

There are many reasons why people may suffer from joint pain, which would compel a person to cure joint pain. The amount of pain one may suffer from joint pain varies on the types of people who commonly get joint pain. For one, people who get joint pain as a result of various diseases are likely to experience stronger and longer-lasting joint pain, which would require the help of a physician to cure joint pain. On the other hand, people who experience joint pain as a result of some accident or injury, depending on the gravity, may only get less serious episodes of pain wherein at-home remedies may be sufficient to cure joint pain.
Based on the above, one can observe two major types of people who commonly get joint pain. The first group pertains to people who suffer joint pain as an offshoot of a current ailment they have. The second group refers to people who experience joint pain as a direct result of some accident or injury during a sport or any physical activity. To cure joint pain in the first class is different when you are looking to cure joint pain in the second class. For the former, one would have to treat the disease first to effectively cure joint pain, which may not be necessary for the latter case.
Conversely, here are specific types of people who commonly get joint pain. For the first group, there are people who experience joint pain because they may be suffering from autoimmune diseases like rheumatoid arthritis and lupus; gout; osteoporosis; and other forms of joint, muscular and skeletal diseases. For the second group, people who figured in accidents causing sprain, fracture, or dislocation of the joints or bones are likewise prone to suffer from joint pain. In all cases, there is a need to immediately cure joint pain, to avoid aggravating the same.

Prevention :-

Ways to Avoid Joint Pain

Joint pain is a physical discomfort that chooses no one and may strike at anybody, whether young or old. To suffer from joint pain may not be easy as it can actually interfere with one’s day to day activities. What’s worse, it is likewise not a piece of cake to cure joint pain. It would then help a lot if one would have an idea as to the various ways to avoid joint pain so that he could likewise pass up having to cure joint pain.
As an overview, joint pain is usually acquired through a disease or by an accident and injury. This should give one a general idea on what are the different ways to avoid joint pain. To steer clear of joint pain and the need to cure joint pain, one should simply avoid getting sick or figuring in an accident or injury. This, of course, may sound silly as there are just things people have no control of. But this is not all true.
One of the ways to avoid joint pain is to watch one’s diet. One should take care to eat vitamin- and mineral-enriched foods and drinks. He must fill his diet with fruits and vegetables to make sure that his body has everything it needs to naturally cure joint pain. On the contrary, he must avoid junk foods, as well as foods high in fat, cholesterol, salt, and uric acid.
Another option one can do to avoid having to cure joint pain is to stay away from high-impact sports and ultra-strenuous activities. By doing so, surely there would be a smaller chance that one would hurt himself with a sprain, fracture, or dislocation of the bones and joints. This is not to discount the fact that a person would also need to have a regular exercise to keep himself healthy.
Third, one is advised to drinking too much alcohol and caffeine, as well as to stop smoking. These vices invite diseases, which one is careful to avoid so that he would not as well have to cure joint pain.
Finally, it is highly recommended that one gets enough sleep and rest every day. This helps the body to function well and to perform its natural strength-building and germ-fighting mechanisms, which will eventually help to cure joint pain in case of a sudden attack.

गठिया से बचने के 5 फ़ूड

How to Cope With Joint Pain

There are various ways on how people cope with any ailment they may be suffering from. The same is true when one is suffering from joint pain and he is practically determined to cure joint pain. As observed, here are some common ways on how to cope with joint pain. These methods may or may not really cure joint pain, but they are guaranteed to help a person to endure his plight.
Medical
This is the most common way on how to cope with joint pain. Getting medical treatment from a licensed physician would also increase the chances of a person to cure joint pain. This may be in the form of prescription for drugs, or surgery to a more serious extent.

Physical
Sometimes, this alternative method to cure joint pain is resorted to by people. This involves some massaging and relaxation techniques that are regularly applied on the affected parts of the body. The goal is to relieve the muscles and joints of the strain, which causes them to redden, to swell and to ache. For more serious cases, people resort to physical therapy, which is administered by a licensed physical therapist to help cure joint pain.
Mental
Another way on how to cope with joint pain is to be aware of the discomfort itself. One must have sufficient knowledge on what causes joint pain, what are its symptoms, and how to basically cure joint pain. Doing so would help one understand the various changes in his body that he has been feeling.
Emotional/Psychological
It would help a person to cure joint pain if he is able to come to terms with the disease and what he is experiencing. In order to cope with joint pain, one must have an open mind as regards the attendant effects of the joint pain on himself, as well as on his daily activities.
Social
Finally, a person can best cope with joint pain if he has some loved ones to back him up and who are always there to support and assist him while he is suffering from the discomfort. When one is experiencing joint pain, there are times when he is momentarily incapable of doing the usual activities he does. During these times, he would need the help of his loved ones to finally help him to cure joint pain.

Symptoms of Joint Pain

One must take care to know the symptoms of joint pain in order for him to be able to properly and promptly administer the treatment to cure joint pain. Like any other ailment, it is always best to cure joint pain when the same is only at its inception, to guarantee a faster and more satisfactory result. Likewise, being familiar with the symptoms of joint pain would let a person know how serious it is, and when it would be extremely necessary to seek the help of a specialist in order to cure joint pain.

There is a tendency for people to take the symptoms of joint pain for granted because they may not be that bothersome for them. However, for the others who have known how it is to suffer from an excruciating joint pain, more often than not, when they feel an indication of joint pain coming about, they would immediately take measures to cure joint pain.

The common and less serious symptoms of joint pain include redness and inflammation of the joints; some physical discomfort like stiffness or physical pain when some pressure is put on the affected part; and noticeable signs of deformity in the external part of the joint.

Another class of symptoms of joint pain include those that are not directly related with joint pain. For example, one may as well suffer from abdominal or some forms of muscle pain; he may develop rashes; his mouth might feel dry; his skin may likewise look flaky; fatigue, headache, sore throat, fever, and frequent urination; and even jaundice. Here, would doctors would normally treat the symptoms before they can manage to cure joint pain.

Finally, there are the more serious and even fatal symptoms of joint pain, where if present, one should immediately head to his doctor to be treated and to cure joint pain. In this case, one must take note of indications of incapacitating joint pain; too much bleeding when cut or wounded; heavy palpitations; chest pain coupled with breathing difficulty; very high temperature; and extremely weak muscles. Because any of these symptoms can be life-threatening, they would need to be closely monitored by a doctor to cure joint pain and other consequential conditions.

How to Naturally Cure Joint Pain

Full Information About Joint Pain

People should be aware that there are several ways to cure joint pain. Knowing this should alleviate the panic usually felt by some people who experience joint pain for the first time. Of course, with the developments in the medical profession, a series of studies has now resulted to various non-natural medications and treatments to cure joint pain.
However, along with these are side effects that do not go well with most people. So that while they may be treated of joint pain, they instead suffer other discomforts because of the medication they have had. Hence, many people have similarly resorted to alternative remedies to cure joint pain. These are natural treatments people can perform by themselves wherever they may be. Below is a brief outline on how to naturally cure joint pain.
Many guides on how to naturally cure joint pain would stress the importance of getting enough rest. This includes taking measures to relax the afflicted joints and muscles, in order to cure joint pain. While at it, a person is also advised to get frequent hot baths with Epsom salts and/or oils. The hot bath will help relieve the strained muscles and joints, which will eventually cure joint pain. It would likewise help to cure joint pain if a person would get a regular massage. For more serious cases, physical therapy would be more suitable.
Another tip on how to naturally cure joint pain involves eating vitamin- and mineral-enriched foods. At times, joint pain may be a result of insufficiency of the Vitamins A, B, C, D and E, as well as the mineral calcium. By regularly ingesting these essential nutrients, as well as herbal supplements, a person can develop stronger bones, muscles, and joints, which in turn cure joint pain.

Finally, one can as well find a natural way to cure joint pain in drinking berry juices as well as green tea, which are known to contain antioxidants. These antioxidants help fight harmful radicals in one’s body and boost one’s immune system.

Home Remedies For Joint Pain

For people who are unwilling to resort to artificial remedies to cure joint pain, there are now at-home remedies for joint pain. These at-home remedies for joint pain are likewise great for people who are tight on their budget, as these will surely not break their bank. In addition, these all-natural at-home remedies for joint pain have been proven to be safe and effective to cure joint pain.
At-home remedies for joint pain would usually start with recommending proper diet to one who is determined to cure joint pain. For people who are frequently suffering from joint pain, it is advised that they stay away from foods and drinks that contain high amounts of fat, uric acid, caffeine, and salt. On the other hand, it is suggested that people drink lots of green tea, as well as grape and berry juices. These contain anti-inflammatory properties that help to cure joint pain.
Taking a nice warm bath would also help to relieve and cure joint pain. While doing so, one can rub some oil on the affected part and slowly massage the same in circular motion to cure joint pain. Similarly, applying hot compress on the inflamed joint would also soothe the pain away.
Stretching and doing some daily aerobic exercise will also help improve one’s strength and endurance. In turn, a person will develop stronger and healthier bones and joints, which can successful to cure joint pain. For a more serious joint pain, one can hire a physical therapist to help him with his routines.
Finally, even with at-home remedies for joint pain, one is still advised to take frequent trips to his doctor. This will enable his physician or health care provider to monitor one’s progress. This will also help the doctor to carefully examine any changes in one’s condition, which will enable him to administer the proper treatment to cure joint pain.

जोड़ो के दर्द का बेमिसाल इलाज

Supplements that Can Help Cure Joint Pain

Other than the recommended drugs and other forms of treatment to cure joint pain, it would be especially helpful if a person likewise takes supplements that can help joint pain. These supplements that help cure joint pain are replete with the essential vitamins and minerals that the body needs to be able to regain its strength. Below is a brief outline of the most bought supplements that can help joint pain.

Bromelain :-

This produces an anti-inflammatory effect that help cure joint pain. This can primarily be found in pineapples.

Calcium :- 

This mineral supplement is always recommended to people to make their bones, joints, as well as bone tissues strong, thereby helping cure joint pain.

Chondroitin Sulfate :-

This is one of some substances, which belongs to the group of glycosaminoglycans that help re-build and repair broken cartilages, tissues, and joints. This substance is said to be present in pork meat and its by-products.

Glucosamine :-

This is usually paired with chondroitin and when taken together, the re-growth of the broken tissues and joints is sped up, which in turn helps to cure joint pain fast. Glucosamine can be found in the shells of crabs, lobsters, and shrimps.

Omega-3 Fatty Acid :- 

This substance help fight destructive enzymes and reduce the redness and swelling of the affected joint. This can best be found in fish oil extract, particularly in fishes like tuna, salmon, and trout.

S Adenosyl Methionine :- 

This is a co-enzme that has helps fight harmful radicals in the body. As a result, it likewise has anti-inflammatory as well as joint repair effects.

Trimethylglycine :- 

Like all the rest, this substance is also capable of making one’s joints, tissues, and muscles strong, which can cure joint pain. Plus, it helps slow down the degradation of the affected joints of a person suffering from joint pain. The substance can be found in beet sugar.

Vitamin D :- 

The vitamin helps absorb calcium in the body. This can be found in many foods and drinks. It can even be taken in by the body from direct exposure to sunlight.

It is important to note that when taking supplements, one must consult with a doctor first to make sure that they can help cure joint pain, instead of aggravating the same. It would also be wise to know the various side effects of the supplements before taking them.


जोड़ों के दर्द के बारे में सामान्य जानकारी

जोड़ों का दर्द विभिन्न आयु वर्ग के लोगों में एक आम बीमारी है, जो वास्तव में परेशान कर सकता है; इसलिए, जोड़ों के दर्द को ठीक करने की आवश्यकता है। अन्यथा जोड़ों में दर्द या अकड़न के रूप में जाना जाता है, जोड़ों का दर्द विभिन्न स्थितियों की एक लूट है जो दोनों अंतर्निहित और अधिग्रहित हैं जैसे दुर्घटनाएं, चोटें, संक्रमण और बीमारियां। किसी व्यक्ति को जोड़ों के दर्द का मूल कारण होने के बावजूद, जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए तत्काल कार्रवाई करने की आवश्यकता होती है।

जैसा कि नाम से पता चलता है, जोड़ों का दर्द शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है जहां जोड़ों में स्थित हैं। इस कारण से, एक व्यक्ति को टखने में दर्द, पीठ में दर्द, कोहनी में दर्द, पैर में दर्द, हाथ में दर्द, कूल्हे में दर्द, घुटने में दर्द, गर्दन में दर्द, या कलाई में दर्द हो सकता है। सभी उदाहरणों में, किसी को जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए उपचार कराने की सलाह दी जाती है। आम लक्षण यह देखने के लिए हैं कि जोड़ों का लाल होना और सूजन होना, प्रभावित भाग में खिंचाव और जोड़ों में दर्द होता है।

लोगों को चिंता करने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि अब उन्नत प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों के साथ जोड़ों के दर्द को ठीक करना आसान है। विरोधी भड़काऊ दवाओं और दर्द निवारक के अलावा, ऐसे प्रारंभिक परीक्षण हैं जो संयुक्त दर्द को ठीक करने में मदद करने के लिए एक प्रस्तावना के रूप में आयोजित किए जाते हैं। यदि ये लागू हो तो जोड़ों की सूजन की सीमा को मापने के लिए रक्त परीक्षण या सीबीसी, एक्स-रे और अन्य परीक्षण हो सकते हैं। इसी तरह से आर्थ्रोसेन्टेसिस नामक विधि है, जिसमें प्रभावित या सूजन वाले संयुक्त से तरल पदार्थ निकालना शामिल है।

जोड़ों के दर्द को ठीक करने का एक और सामान्य तरीका है, भौतिक चिकित्सा। यहां, रोगी एक नियमित संयुक्त और मांसपेशियों की जांच और पुनर्वास के लिए प्रस्तुत करता है। जोड़ों का अवलोकन और उपचार तब तक किया जाता है जब तक कि सूजन या सूजन के कोई और लक्षण दिखाई न दें, या जब तक कि रोगी किसी भी प्रकार के दर्द के बिना, फिर से अपने चरम सीमाओं का पूरी तरह से उपयोग करने में सक्षम न हो जाए।

जोड़ों के दर्द के संभावित कारण

जॉइंट पेन एक ऐसी बीमारी है जो किसी भी व्यक्ति को कभी भी और कहीं भी हो सकती है। हालांकि यह जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए अत्यधिक संभावित है, वही वास्तव में एक भयानक अनुभव हो सकता है ताकि यह लोगों द्वारा कई तरह की बीमारी से पीड़ित हो।

जोड़ों के दर्द से पीड़ित होने की संभावना से बचने के लिए और एक ही समय में जोड़ों के दर्द को कैसे ठीक किया जाए, यह जानने के लिए, एक व्यक्ति के लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि जोड़ों के दर्द के संभावित कारण क्या हैं। यहाँ कुछ जोड़ों के दर्द के कारण हैं जिनसे लोग परिचित हैं।

जोड़ों के दर्द को किसी भी गतिविधि के दौरान हल्के घटनाओं जैसे कि एक संलयन, मोच, फटी उपास्थि या स्नायुबंधन, या कुछ अन्य मामूली चोटों द्वारा लाया जा सकता है। इस प्रकार के लिए, जोड़ों के दर्द को ठीक करना बहुत आसान होगा। इसके विपरीत, जोड़ों का दर्द अधिक गंभीर दुर्घटनाओं, चोटों, संक्रमण या बीमारियों का परिणाम भी हो सकता है। इस तरह के उपचार योग्य है, लेकिन इस तरह के जोड़ों के दर्द को ठीक करने में विशेषज्ञों को थोड़ा समय लग सकता है।

जोड़ों के दर्द के अधिक गंभीर संभावित कारणों में संयुक्त या हड्डी की अव्यवस्था, बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण जैसे कि हेपेटाइटिस, खसरा, इन्फ्लूएंजा, रूबेला, कण्ठमाला या सिफलिस शामिल हैं, कुछ नाम; ऑटोइम्यून रोग जैसे कि सोजोग्रेन सिंड्रोम और ल्यूपस; अपक्षयी रोग जैसे गठिया और गठिया; या हड्डी का कैंसर, हाइपरपरथायरायडिज्म और पेजेट की बीमारी। आमतौर पर, इन विकृतियों में से किसी के परिणामस्वरूप जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए, डॉक्टरों को पहले बाद का इलाज करना होगा।

जोड़ों के दर्द के सभी उपरोक्त संभावित कारणों में, एक को सलाह दी जाती है कि वह उन लक्षणों और लक्षणों का सावधानीपूर्वक निरीक्षण करें जो वह अनुभव कर रहे हैं। यदि जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए बुनियादी घरेलू उपचारों को नियोजित करने के बाद अभी तक कम नहीं हुआ है और इसके बजाय संयुक्त दर्द एक आंदोलन को सीमित करने के लिए आया है, तो तत्काल पेशेवर मदद आवश्यक है।

जोड़ो का दर्द क्या होता है

कुछ लोग वास्तव में दिमाग नहीं लगाते हैं और जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए उपाय करते हैं। एक कारण यह है कि दवा और उपचार उनकी जेब पर काफी कठोर हो सकते हैं। एक और कारण यह हो सकता है कि वे इसे बेकार मानते हैं या अभी तक जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए बहुत परेशानी है। हालांकि, किसी को पता होना चाहिए कि जोड़ों का दर्द अभी नहीं छोड़ता है। उसे पता होना चाहिए कि अनुपचारित जोड़ों के दर्द का क्या होता है।

एक साधारण जोड़ों का दर्द, जब अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो कुछ और भी गंभीर हो सकता है। जोड़ों का दर्द जितना गंभीर होता है, जोड़ों के दर्द को ठीक करना उतना ही कठिन। इस नोट पर, जब वह जोड़ों का दर्द होता है, तो शारीरिक परेशानी का अनुभव होता है, और भी असहनीय हो सकता है। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो जोड़ों का दर्द प्रभावित हिस्से की स्थायी गतिहीनता का कारण बन सकता है। हो सकता है कि एक बार फिर से वह अपनी साधारण दैनिक गतिविधियाँ न कर सके। यह एक विनाशकारी प्रभाव है जिससे लोगों को जोड़ों के दर्द को ठीक करने का आग्रह किया जाता है।

कुछ लोगों के लिए, वे वास्तव में जोड़ों के दर्द को ठीक करने से बच नहीं सकते हैं, क्योंकि इसका मतलब यह होगा कि उन्हें एक बीमारी का इलाज करना होगा। यदि इस उदाहरण में संयुक्त दर्द को छोड़ दिया जाता है, तो व्यक्ति को उसके रोग से पीड़ित होने की संभावना अधिक होती है। केवल इतना ही नहीं, बल्कि वह अपने प्रियजनों को बहुत कष्ट पहुंचा रहा होगा क्योंकि वे उसके दर्द और पीड़ा के साक्षी हैं।

दूसरी ओर, अन्य लोगों के लिए, यदि वे जोड़ों के दर्द का इलाज नहीं करते हैं, तो वे अंततः अपने अंगों का नुकसान उठा सकते हैं। यह उन लोगों के लिए अत्यधिक लागू होता है जिन्हें मोच, फ्रैक्चर या हड्डी और संयुक्त अव्यवस्था के प्रत्यक्ष परिणाम के रूप में जोड़ों के दर्द का सामना करना पड़ा है। बेशक, आपके शरीर के एक हिस्से को खोने की तुलना में क्या अधिक निराशाजनक हो सकता है, जिसे आप फिर से कभी नहीं खो सकते हैं?

जोड़ो दर्द के लिए जोखिम कारक

जोड़ों का दर्द एक बीमारी है जो किसी भी व्यक्ति के लिए विशिष्ट नहीं है। यह किसी के बारे में और किसी भी समय यह चाहता है पर हमला करता है। इस प्रकार, यह बहुत उपयोगी होगा यदि लोग जोड़ों के दर्द के जोखिम कारकों के बारे में जानते हैं। यह उस एक में फायदेमंद होगा, इससे उन्हें बीमारी से बचने में मदद मिलेगी; और दो, इससे उन्हें जोड़ों के दर्द को ठीक करने के उचित तरीकों और साधनों की पहचान करने में मदद मिलेगी।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जोड़ों का दर्द शायद ही कभी किसी अन्य परिचर परिस्थितियों के बिना होता है जिसमें संयुक्त दर्द के जोखिम कारक संबंधित होते हैं। यहां जोड़ों के दर्द के लिए विभिन्न जोखिम कारकों की त्वरित चर्चा है, जो आपको जोड़ों के दर्द से बचने और ठीक करने में मदद कर सकते हैं।

इसके साथ शुरू करने के लिए, यह जोड़ों के दर्द के लिए बहुत अधिक जोखिम कारक नहीं है, जोड़ों के दर्द का अनुभव करने वाले व्यक्ति के साथ उम्र बहुत अधिक है। यह इतना अधिक जोखिम का कारक नहीं है क्योंकि युवा और वृद्ध लोगों को एक जैसे रोग होने की छूट नहीं है। हालांकि, जोड़ों का दर्द सबसे अधिक स्वाभाविक रूप से वृद्ध लोगों को जिम्मेदार ठहराया जाता है, जिन्होंने कमजोर हड्डियों और प्रतिरक्षा प्रणाली को विकसित किया है। युवा लोगों के साथ-साथ बूढ़े लोगों में जोड़ों के दर्द को ठीक करने के तरीके अलग-अलग हैं। पुराने लोगों के बदले हुए शरीर के कारण आमतौर पर उनमें जोड़ों के दर्द का इलाज करना अधिक कठिन होता है।

एक संबंधित जोखिम कारक आनुवांशिकी है। जोड़ों का दर्द वैसे ही लोगों में देखा जाता है, जिनका संयुक्त दर्द से जुड़ा पारिवारिक इतिहास है। क्योंकि यह अब एक के जीन में है, इसलिए यह बचना काफी मुश्किल है, और जोड़ों के दर्द को ठीक करने में भी थोड़ा समय लग सकता है।

जोड़ों के दर्द के लिए एक तीसरा जोखिम कारक वह है जब कोई व्यक्ति पहले से ही किसी बीमारी से पीड़ित हो, जिसके जोड़ों में दर्द इसके लक्षणों में से एक है। इस उदाहरण में जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए, डॉक्टरों को पहले इस बीमारी का इलाज करना होगा। एक बार पूरी तरह से ठीक हो जाने के बाद, अब जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाना आसान हो जाएगा।

अंत में, एक ज्ञात कारक जो जोड़ों के दर्द को ट्रिगर करता है, जब कोई व्यक्ति अक्सर बहुत सक्रिय और उच्च प्रभाव वाली गतिविधियों और खेल में संलग्न होता है। जब कोई व्यक्ति मोच, फ्रैक्चर या अव्यवस्था से पीड़ित होता है, तो वह होता है

क्षतिग्रस्त संयुक्त पर संयुक्त दर्द का अनुभव होने की संभावना। यह वास्तव में दर्दनाक हो सकता है और संयुक्त दर्द को ठीक करने के लिए एक विशेषज्ञ की आवश्यकता होगी।

उन लोगों के प्रकार जिन्हें आमतौर पर जोड़ों का दर्द होता है

कई कारण हैं कि लोग जोड़ों के दर्द से पीड़ित हो सकते हैं, जो किसी व्यक्ति को जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए मजबूर करेगा। जोड़ों के दर्द से पीड़ित व्यक्ति की मात्रा उन लोगों के प्रकार पर भिन्न होती है जिन्हें आमतौर पर जोड़ों का दर्द होता है। एक के लिए, जिन लोगों को विभिन्न बीमारियों के परिणामस्वरूप जोड़ों का दर्द होता है, उन्हें मजबूत और लंबे समय तक चलने वाले जोड़ों के दर्द का अनुभव होने की संभावना होती है, जिससे जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए चिकित्सक की मदद की आवश्यकता होती है। दूसरी ओर, जो लोग गुरुत्वाकर्षण के आधार पर किसी दुर्घटना या चोट के परिणामस्वरूप जोड़ों के दर्द का अनुभव करते हैं, वे केवल दर्द के कम गंभीर प्रकरण प्राप्त कर सकते हैं जिसमें घरेलू उपचार संयुक्त दर्द को ठीक करने के लिए पर्याप्त हो सकते हैं।

उपरोक्त के आधार पर, व्यक्ति दो प्रमुख प्रकार के लोगों का निरीक्षण कर सकता है, जिन्हें आमतौर पर जोड़ों का दर्द होता है। पहला समूह उन लोगों से संबंधित है जो एक मौजूदा बीमारी के कारण एक संयुक्त दर्द के रूप में पीड़ित हैं। दूसरा समूह उन लोगों को संदर्भित करता है जो किसी खेल या किसी शारीरिक गतिविधि के दौरान किसी दुर्घटना या चोट के प्रत्यक्ष परिणाम के रूप में जोड़ों के दर्द का अनुभव करते हैं। पहली कक्षा में जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए अलग है जब आप दूसरी कक्षा में जोड़ों के दर्द का इलाज करना चाहते हैं। पूर्व के लिए, किसी को जोड़ों के दर्द को प्रभावी ढंग से ठीक करने के लिए पहले बीमारी का इलाज करना होगा, जो बाद के मामले के लिए आवश्यक नहीं हो सकता है।

इसके विपरीत, यहाँ विशिष्ट प्रकार के लोग हैं जिन्हें आमतौर पर जोड़ों का दर्द होता है। पहले समूह के लिए, ऐसे लोग हैं जो जोड़ों के दर्द का अनुभव करते हैं क्योंकि वे गठिया और ल्यूपस जैसे ऑटोइम्यून रोगों से पीड़ित हो सकते हैं; गाउट; हड्डियों की कमजोरी; और संयुक्त, मांसपेशियों और कंकाल रोगों के अन्य रूप। दूसरे समूह के लिए, जो लोग मोच, फ्रैक्चर या जोड़ों या हड्डियों की अव्यवस्था के कारण दुर्घटनाओं में शामिल होते हैं, वैसे ही जोड़ों के दर्द से पीड़ित होते हैं। सभी मामलों में, समान दर्द से बचने के लिए, तुरंत जोड़ों के दर्द को ठीक करने की आवश्यकता है।

रोकथाम: -जोड़ों के दर्द से बचने के तरीके

जोड़ों का दर्द एक शारीरिक परेशानी है जो किसी को नहीं चुनती है और किसी पर भी हमला कर सकती है, चाहे वह युवा हो या बूढ़ा। जोड़ों के दर्द से पीड़ित होना आसान नहीं हो सकता है क्योंकि यह वास्तव में एक दिन की दैनिक गतिविधियों में हस्तक्षेप कर सकता है। क्या बुरा है, इसी तरह जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए केक का एक टुकड़ा नहीं है। यह तब बहुत मदद करेगा अगर किसी को जोड़ों के दर्द से बचने के विभिन्न तरीकों के रूप में एक विचार होगा ताकि वह जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए पास हो सके।

एक सिंहावलोकन के रूप में, जोड़ों का दर्द आमतौर पर एक बीमारी या एक दुर्घटना और चोट के माध्यम से प्राप्त होता है। यह एक सामान्य विचार देना चाहिए कि जोड़ों के दर्द से बचने के विभिन्न तरीके क्या हैं। जोड़ों के दर्द और जोड़ों के दर्द को ठीक करने की आवश्यकता को पूरा करने के लिए, किसी को दुर्घटना या चोट लगने से बचना चाहिए। यह, निश्चित रूप से, मूर्खतापूर्ण लग सकता है क्योंकि ऐसी चीजें हैं जिनका लोगों पर कोई नियंत्रण नहीं है। लेकिन यह सब सच नहीं है।

जोड़ों के दर्द से बचने के तरीकों में से एक आहार को देखना है। विटामिन - और खनिज युक्त खाद्य पदार्थ और पेय खाने के लिए ध्यान रखना चाहिए। उसे अपने आहार को फलों और सब्जियों से भरना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उसके शरीर में वह सब कुछ है जो उसे स्वाभाविक रूप से जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए चाहिए। इसके विपरीत, उसे जंक फूड से बचना चाहिए, साथ ही वसा, कोलेस्ट्रॉल, नमक और यूरिक एसिड वाले खाद्य पदार्थों से भी अधिक होना चाहिए।

एक अन्य विकल्प जो जोड़ों के दर्द को ठीक करने से बचने के लिए कर सकता है, वह है उच्च प्रभाव वाले खेल और अल्ट्रा-ज़ोरदार गतिविधियों से दूर रहना। ऐसा करने से, निश्चित रूप से एक छोटा मौका होगा कि कोई खुद को मोच, फ्रैक्चर, या हड्डियों और जोड़ों की अव्यवस्था के साथ चोट पहुंचाएगा। यह इस तथ्य से छूट देने के लिए नहीं है कि एक व्यक्ति को खुद को स्वस्थ रखने के लिए नियमित व्यायाम करने की आवश्यकता होगी।

तीसरा, किसी को बहुत अधिक शराब और कैफीन पीने की सलाह दी जाती है, साथ ही धूम्रपान बंद करने के लिए भी। ये विकार बीमारियों को आमंत्रित करते हैं, जिससे बचने के लिए लोग सावधान रहते हैं ताकि उन्हें जोड़ों के दर्द का इलाज न करना पड़े।

अंत में, यह अत्यधिक अनुशंसा की जाती है कि हर दिन पर्याप्त नींद और आराम मिले। यह शरीर को अच्छी तरह से काम करने और अपने प्राकृतिक शक्ति-निर्माण और रोगाणु-लड़ने वाले तंत्र का प्रदर्शन करने में मदद करता है, जो अंततः अचानक हमले के मामले में जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद करेगा।

ज्वाइंट पेन से कैसे करें बचाव

इस बात के विभिन्न तरीके हैं कि लोग किसी भी बीमारी से कैसे जूझते हैं जिससे वे पीड़ित हो सकते हैं। वही सच है जब कोई जोड़ों के दर्द से पीड़ित होता है और वह जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए व्यावहारिक रूप से निर्धारित होता है। जैसा कि देखा गया है, यहां कुछ सामान्य तरीके हैं जो जोड़ों के दर्द का सामना करते हैं। ये तरीके वास्तव में जोड़ों के दर्द का इलाज कर सकते हैं या नहीं, लेकिन किसी व्यक्ति को उसकी दुर्दशा को सहन करने में मदद करने की गारंटी है।

मेडिकल


जोड़ों के दर्द का सामना करने के तरीके पर यह सबसे आम तरीका है। लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक से चिकित्सा प्राप्त करने से व्यक्ति को जोड़ों के दर्द को ठीक करने की संभावना बढ़ जाती है। यह दवाओं के लिए डॉक्टर के पर्चे के रूप में हो सकता है, या अधिक गंभीर हद तक सर्जरी कर सकता है।

भौतिक

कभी-कभी, जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए इस वैकल्पिक विधि का सहारा लोगों द्वारा लिया जाता है। इसमें कुछ मालिश और विश्राम तकनीक शामिल हैं जो नियमित रूप से शरीर के प्रभावित हिस्सों पर लगाए जाते हैं। लक्ष्य तनाव की मांसपेशियों और जोड़ों को राहत देना है, जो उन्हें फिर से लाल करने, सूजन और दर्द का कारण बनता है। अधिक गंभीर मामलों के लिए, लोग भौतिक चिकित्सा का सहारा लेते हैं, जिसे जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद करने के लिए एक लाइसेंस प्राप्त भौतिक चिकित्सक द्वारा प्रशासित किया जाता है।

मानसिक

जोड़ों के दर्द का सामना करने के तरीके के बारे में एक और तरीका यह है कि खुद को असुविधा के बारे में पता होना चाहिए। जोड़ों के दर्द का कारण क्या है, इसके लक्षण क्या हैं और मूल रूप से जोड़ों के दर्द को कैसे ठीक किया जाए, इस पर पर्याप्त ज्ञान होना चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति को अपने शरीर में होने वाले विभिन्न परिवर्तनों को समझने में मदद मिलेगी।

भावनात्मक / मनोवैज्ञानिक

यह एक व्यक्ति को जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद करेगा यदि वह बीमारी के साथ आने में सक्षम है और वह क्या अनुभव कर रहा है। जोड़ों के दर्द का सामना करने के लिए, एक व्यक्ति को खुले दिमाग का होना चाहिए, क्योंकि संयुक्त दर्द के परिचर प्रभाव के साथ-साथ उसकी दैनिक गतिविधियों पर भी ध्यान देना चाहिए।

सामाजिक

अंत में, एक व्यक्ति संयुक्त दर्द के साथ सबसे अच्छा सामना कर सकता है यदि उसके पास उसे वापस करने के लिए कुछ प्रियजन हैं और जो हमेशा असुविधा का सामना करने के दौरान उसका समर्थन करने और उसकी सहायता करने के लिए होते हैं। जब कोई जोड़ों के दर्द का अनुभव कर रहा होता है, तो कई बार वह सामान्य गतिविधियों को करने में असमर्थ हो जाता है। इन समयों के दौरान, उसे अपने प्रियजनों की मदद की आवश्यकता होगी ताकि अंततः उसे जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद मिल सके।

जोड़ों के दर्द के लक्षण

जोड़ों के दर्द के लक्षणों को जानने के लिए उन्हें ध्यान रखना चाहिए ताकि जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए वे ठीक से और तुरंत उपचार कर सकें। किसी भी अन्य बीमारी की तरह, यह जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए हमेशा सबसे अच्छा होता है जब वही तेजी से और अधिक संतोषजनक परिणाम की गारंटी देने के लिए अपनी स्थापना के समय ही होता है। इसी तरह, जोड़ों के दर्द के लक्षणों से परिचित होने से किसी व्यक्ति को पता चल जाएगा कि यह कितना गंभीर है, और जब जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए किसी विशेषज्ञ की मदद लेना बेहद आवश्यक होगा।

 लोगों के लिए संयुक्त दर्द के लक्षणों को लेने की प्रवृत्ति है क्योंकि वे उनके लिए परेशान नहीं हो सकते हैं। हालांकि, दूसरों के लिए जो यह जानते हैं कि यह एक दर्दनाक संयुक्त दर्द से कैसे पीड़ित है, अधिक बार नहीं, जब वे संयुक्त दर्द के बारे में एक संकेत महसूस करते हैं, तो वे तुरंत जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए उपाय करेंगे।

जोड़ों के दर्द के सामान्य और कम गंभीर लक्षणों में जोड़ों की लाली और सूजन शामिल है; कुछ शारीरिक परेशानी जैसे अकड़न या शारीरिक दर्द जब प्रभावित हिस्से पर कुछ दबाव डाला जाता है; और संयुक्त के बाहरी हिस्से में विकृति के ध्यान देने योग्य संकेत।

जोड़ों के दर्द के लक्षणों के एक अन्य वर्ग में वे शामिल हैं जो सीधे संयुक्त दर्द से संबंधित नहीं हैं। उदाहरण के लिए, व्यक्ति पेट या मांसपेशियों के दर्द के कुछ रूपों से पीड़ित हो सकता है; वह चकत्ते विकसित कर सकता है; उसका मुँह सूखा लग सकता है; उसकी त्वचा वैसे ही परतदार दिख सकती है; थकान, सिरदर्द, गले में खराश, बुखार, और बार-बार पेशाब आना; और यहां तक ​​कि पीलिया भी। यहां, डॉक्टर सामान्य रूप से जोड़ों के दर्द का इलाज करने से पहले लक्षणों का इलाज कर सकते हैं।

अंत में, जोड़ों के दर्द के अधिक गंभीर और यहां तक ​​कि घातक लक्षण हैं, जहां मौजूद होने पर, व्यक्ति को तुरंत अपने चिकित्सक के पास इलाज करने और जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए सिर चाहिए। इस मामले में, किसी को जोड़ों के दर्द को कम करने के संकेत पर ध्यान देना चाहिए; बहुत खून बह रहा है जब कट या घायल; भारी धड़कन; सांस लेने में कठिनाई के साथ जोड़ों का दर्द; बहुत उच्च तापमान; और बेहद कमजोर मांसपेशियां। क्योंकि इन लक्षणों में से कोई भी जीवन के लिए खतरा हो सकता है, उन्हें जोड़ों के दर्द और अन्य परिणामी स्थितियों को ठीक करने के लिए डॉक्टर द्वारा बारीकी से निगरानी करने की आवश्यकता होगी।

प्राकृतिक रूप से जोड़ों के दर्द का इलाज कैसे करें
लोगों को पता होना चाहिए कि जोड़ों के दर्द को ठीक करने के कई तरीके हैं। यह जानते हुए कि कुछ लोगों द्वारा महसूस किए गए आतंक को कम करना चाहिए जो पहली बार जोड़ों के दर्द का अनुभव करते हैं। बेशक, चिकित्सा पेशे के विकास के साथ, अध्ययन की एक श्रृंखला के परिणामस्वरूप अब जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए विभिन्न गैर-प्राकृतिक दवाएं और उपचार किए गए हैं।

हालांकि, इसके साथ साइड इफेक्ट होते हैं जो ज्यादातर लोगों के साथ ठीक नहीं होते हैं। ताकि जब उन्हें जोड़ों के दर्द का इलाज किया जा सके, तो वे दवा के कारण अन्य असुविधाएं झेलें। इसलिए, कई लोगों ने जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए वैकल्पिक उपचारों का सहारा लिया है। ये प्राकृतिक उपचार हैं जहां लोग अपने आप से कहीं भी प्रदर्शन कर सकते हैं। नीचे जोड़ों के दर्द को स्वाभाविक रूप से ठीक करने के बारे में एक संक्षिप्त रूपरेखा दी गई है।

जोड़ों के दर्द को स्वाभाविक रूप से ठीक करने के लिए कई गाइड पर्याप्त आराम पाने के महत्व पर जोर देते हैं। इसमें जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए पीड़ित जोड़ों और मांसपेशियों को आराम देने के उपाय करना शामिल है। जबकि इस समय, एक व्यक्ति को एप्सोम लवण और / या तेलों के साथ लगातार गर्म स्नान करने की सलाह दी जाती है। गर्म स्नान तनाव वाली मांसपेशियों और जोड़ों को राहत देने में मदद करेगा, जो अंततः जोड़ों के दर्द को ठीक करेगा। यह वैसे ही जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद करेगा अगर किसी व्यक्ति को नियमित मालिश मिलेगी। अधिक गंभीर मामलों के लिए, भौतिक चिकित्सा अधिक उपयुक्त होगी।

जोड़ों के दर्द को स्वाभाविक रूप से ठीक करने के लिए एक और टिप में विटामिन- और खनिज युक्त खाद्य पदार्थ शामिल हैं। कई बार, जोड़ों में दर्द विटामिन ए, बी, सी, डी और ई की अपर्याप्तता के साथ-साथ खनिज कैल्शियम का परिणाम हो सकता है। इन आवश्यक पोषक तत्वों, साथ ही हर्बल सप्लीमेंट्स को नियमित रूप से लेने से, एक व्यक्ति मजबूत हड्डियों, मांसपेशियों और जोड़ों को विकसित कर सकता है, जो संयुक्त दर्द को ठीक करता है।

अंत में, कोई भी बेरी जूस पीने के साथ-साथ ग्रीन टी पीने से जोड़ों के दर्द को ठीक करने का प्राकृतिक तरीका पा सकता है, जिसे एंटीऑक्सीडेंट से युक्त माना जाता है। ये एंटीऑक्सिडेंट एक शरीर में हानिकारक कणों से लड़ने में मदद करते हैं और एक प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं।

जोड़ो के दर्द का घरेलू उपचार

जो लोग जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए कृत्रिम उपचार का सहारा लेने को तैयार नहीं हैं, उनके लिए अब जोड़ों के दर्द के घरेलू उपचार हैं। जोड़ों के दर्द के लिए ये घरेलू उपाय वैसे लोगों के लिए बहुत अच्छे हैं, जो अपने बजट पर चुस्त हैं, क्योंकि यह निश्चित रूप से उनके बैंक को नहीं तोड़ेंगे। इसके अलावा, जोड़ों के दर्द के लिए ये सभी प्राकृतिक घरेलू उपचार जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए सुरक्षित और प्रभावी साबित हुए हैं।

जोड़ों के दर्द के लिए घरेलू उपचार आमतौर पर उस व्यक्ति को उचित आहार की सिफारिश के साथ शुरू होता है जो जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए निर्धारित होता है। जो लोग अक्सर जोड़ों के दर्द से पीड़ित होते हैं, उनके लिए सलाह दी जाती है कि वे उन खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों से दूर रहें जिनमें वसा, यूरिक एसिड, कैफीन और नमक अधिक मात्रा में हो। दूसरी ओर, यह सुझाव दिया जाता है कि लोग बहुत सारी हरी चाय पीते हैं, साथ ही अंगूर और बेरी का रस भी। इनमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद करते हैं।

एक अच्छा गर्म स्नान लेने से भी जोड़ों के दर्द से राहत और इलाज में मदद मिलेगी। ऐसा करते समय, कोई प्रभावित हिस्से पर कुछ तेल रगड़ सकता है और धीरे-धीरे संयुक्त दर्द को ठीक करने के लिए परिपत्र गति में समान मालिश कर सकता है। इसी तरह, सूजन वाले जोड़ पर गर्म सेक लगाने से दर्द भी दूर होता है।

स्ट्रेचिंग और कुछ दैनिक एरोबिक व्यायाम करने से भी किसी की ताकत और धीरज को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। बदले में, एक व्यक्ति मजबूत और स्वस्थ हड्डियों और जोड़ों का विकास करेगा, जो जोड़ों के दर्द को ठीक करने में सफल हो सकता है। अधिक गंभीर जोड़ों के दर्द के लिए, कोई व्यक्ति अपनी दिनचर्या के साथ उसकी मदद करने के लिए एक भौतिक चिकित्सक को रख सकता है।

अंत में, यहां तक ​​कि जोड़ों के दर्द के लिए घरेलू उपचार के साथ, अभी भी किसी को अपने डॉक्टर से लगातार यात्राएं करने की सलाह दी जाती है। यह उसके चिकित्सक या स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता को किसी की प्रगति की निगरानी करने में सक्षम करेगा। इससे डॉक्टर को किसी भी स्थिति में किसी भी बदलाव की सावधानीपूर्वक जांच करने में मदद मिलेगी, जिससे वह जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए उचित उपचार का प्रबंध कर सकेगा।

पूरक जो जोड़ों के दर्द का इलाज कर सकते हैं

जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए अनुशंसित दवाओं और उपचार के अन्य रूपों के अलावा, यह विशेष रूप से सहायक होगा यदि कोई व्यक्ति इसी तरह पूरक लेता है जो जोड़ों के दर्द में मदद कर सकता है। जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद करने वाले ये पूरक आवश्यक विटामिन और खनिजों से परिपूर्ण होते हैं, जिन्हें शरीर को अपनी ताकत वापस पाने में सक्षम होना चाहिए। नीचे सबसे अधिक खरीदे गए पूरक की संक्षिप्त रूपरेखा है जो जोड़ों के दर्द में मदद कर सकती है।

ब्रोमेलैन - यह एक विरोधी भड़काऊ प्रभाव पैदा करता है जो जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद करता है। यह मुख्य रूप से अनानास में पाया जा सकता है।
कैल्शियम - यह खनिज पूरक हमेशा लोगों को अपनी हड्डियों, जोड़ों, साथ ही हड्डियों के ऊतकों को मजबूत बनाने के लिए अनुशंसित किया जाता है, जिससे जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद मिलती है।
चोंड्रोइटिन सल्फेट - यह कुछ पदार्थों में से एक है, जो ग्लाइकोसामिनोग्लाइकेन्स के समूह से संबंधित है जो टूटी हुई कार्टिलेज, ऊतकों और जोड़ों को फिर से बनाने और मरम्मत में मदद करता है। यह पदार्थ सूअर के मांस और उसके उप-उत्पादों में मौजूद होता है।
ग्लूकोसामाइन - यह आमतौर पर चोंड्रोइटिन के साथ जोड़ा जाता है और जब एक साथ लिया जाता है, तो टूटे हुए ऊतकों और जोड़ों का फिर से विकास होता है, जो बदले में जोड़ों के दर्द को तेजी से ठीक करने में मदद करता है। ग्लूकोसामाइन केकड़ों, झींगा मछलियों, और चिंराट के गोले में पाया जा सकता है।
ओमेगा -3 फैटी एसिड - यह पदार्थ विनाशकारी एंजाइमों से लड़ने में मदद करता है और प्रभावित संयुक्त की लालिमा और सूजन को कम करता है। यह सबसे अच्छा मछली के तेल के अर्क में पाया जा सकता है, विशेष रूप से ट्यूना, सामन और ट्राउट जैसी मछलियों में।
S-Adenosyl-Methionine - यह एक सह-एन्जाइम है जो शरीर में हानिकारक कणों से लड़ने में मदद करता है। नतीजतन, यह इसी तरह विरोधी भड़काऊ है और साथ ही संयुक्त मरम्मत प्रभाव भी है।
ट्राईमेथिलग्लिसिन - बाकी सभी की तरह, यह पदार्थ किसी के जोड़ों, ऊतकों और मांसपेशियों को मजबूत बनाने में भी सक्षम है, जो जोड़ों के दर्द को ठीक कर सकता है। साथ ही, यह जोड़ों के दर्द से पीड़ित व्यक्ति के प्रभावित जोड़ों के क्षरण को धीमा करने में मदद करता है। पदार्थ चुकंदर में पाया जा सकता है।
विटामिन डी - विटामिन शरीर में कैल्शियम को अवशोषित करने में मदद करता है। यह कई खाद्य पदार्थों और पेय में पाया जा सकता है। यहां तक ​​कि इसे शरीर द्वारा सीधे सूर्य के प्रकाश के संपर्क में भी लिया जा सकता है।
यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि पूरक लेते समय, किसी को पहले डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे जोड़ों के दर्द को ठीक करने में मदद कर सकते हैं, इसके बजाय एक ही। उन्हें लेने से पहले पूरक के विभिन्न दुष्प्रभावों को जानना भी बुद्धिमानी होगी।

No comments:

Post a Comment

click Here

[ Earphones Tech ][ Ayurveda For You ][ Bset Skincare Tips ][ thrombosed hemorrhoids Treatments ]